क्यूआर कोड (QR) और बारकोड (Barcode) क्या है? ये कैसे काम करता है Leaked on hdhub4u, movievarse and Telegram

अपने बहुत सी जगह पर बारकोड और क्यूआर कोड देखा होगा और बारकोड तो बहुत कॉमन है. बारकोड किसी उत्पाद के बारे में आंकड़े या सूचना को लिखने का एक तरीका है. अपने मूल रूप में बारकोड के लिये समान्तर रेखाओं एवं उनके बीच के अन्तराल का उपयोग किया जाता था. जबकि क्यूआर (QR) कोड स्क्वायर शेप में होते है. इसमें आपको डॉट डॉट का पैटर्न देखने को मिलता है. ये आपको टिकट, ऑनलाइन वेबसाइट, ऑनलाइन पेमेंट और बहुत सी जगह में मिल जायेंगे.

QR Code क्या है ये कैसे काम करता है?

QR code एक तरह की उन्नत तकनीक है जिसके द्वारा आप अपने किसी भी प्रकार के डाटा को (Contact No.,Photo, Document, Message, Link) इत्यादि को encrypted करके स्टोर कर सकते हैं और किसी यूजर को भेज सकते हैं

क्यूआर कोड का पूरा नाम Quick Responce Code होता है इसे हिंदी में त्वरित प्रतिक्रिया संकेतावली यह एक प्रकार के मैट्रिक्स बारकोड के लिए ट्रेडमार्क है. क्यूआर संकेतावली सर्वप्रथम मोटर वाहन उद्योगों के लिए विकसित किया गया था। लेकिन इसकी जल्द पठनीयता और बड़ी भंडारण क्षमता के चलते हाल ही में यह तंत्रज्ञान मोटर वाहन उद्योगों से परे भी लोकप्रिय हो गया.

एक QR कोड चार मानकीकृत एन्कोडिंग मोड (आंकिक, अल्फान्यूमेरिक, बाइट/ द्विआधारी, और कांजी) का कुशलता से डेटा स्टोर करने के लिए उपयोग करता है. क्यूआर कोड प्रणाली मानक UPC बारकोड की तुलना में अपनी तेजी से पठनीयता और अधिक से अधिक भंडारण क्षमता के कारण मोटर वाहन उद्योग के बाहर लोकप्रिय हो गयी.

क्यूआर कोड में 4by2 के ब्लॉक होते है जो एक दूसरे से एरर कनेक्शन से जुड़े रहते है इन ब्लॉक में नंबर सेट होते है. जिस नंबर पर ब्लैक ब्लॉक होते है उसे हम काउंट कर लेते है. उदाहरण के लिए अगर 1 4 7 और 3 ब्लैक है. तो 1+4+7+3=15 इस नंबर में 15 का मतलब . या फुलस्टॉप मान लेते है. इसका मतलब उस ब्लैक ब्लॉक मतलब डॉट है.

इसी तरह अगले ब्लॉक को पढ़ कर जानते है उसमे क्या लिखा है. तो इस तरह हम अपने मोबाइल या किसी स्कैनर से क्यूआर कोड में छुपी जानकारी को पढ़ लेते है. QR कोड को आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीको से जनरेट कर सकते है.

QR Code Generator Website

  1. http://ctrlq.org/qrcode/
  2. http://goqr.me/
  3. https://the-qrcode-generator.com/

Barcode क्या है ये कैसे काम करता है?

bar code

बारकोड किसी उत्पाद के बारे में आंकड़े या सूचना को लिखने का एक तरीका है. यह बारकोड किसी उत्पाद के बारे में पूरी जानकारी जैसे उसका मूल्य, उसकी मात्रा, किस देश ने बनाया, किस देश में बना, किस कंपनी ने बनाया आदि सभी जानकारी होती है. बारकोड को ऑप्टिकल स्कैनर की सहायता से पढ़ा जा सकता है.

जिसे बारकोड रीडर भी कहते है. किसी भी स्टोर से जब आप कोई भी सामान खरीदते है तो आपको अलग-अलग नंबरों की भिन्नता के साथ पतली, काली रेखाओं के साथ एक लेबल दिखाई देगा. यह लेबल तब केशियर द्वारा स्कैन किया जाता है और सामान का विवरण मूल्य ऑटोमेटिकली स्क्रीन पर आते है. इसी को बारकोड कहा जाता है.

बारकोड कैसे काम करता है?

कम्प्यूटर केवल बाइनरी लैंगुएज (Binary Language) को समझता है, यह 0 और 1 के रूप में होती है, इसीलिए बारकोड के 95 खानों को केवल 0 और 1 में विभाजित किया जाता है. इसके बाद इन 95 खानों को भी 15 अलग अलग खानों में विभाजित किया जाता है. इनमें 12 खानों में बारकोड लिखा जाता है और अन्य 3 खानों को गार्ड्स के रूप में विभाजित किया जाता है.

प्रत्येक बारकोड को बाएं से दायें पढ़ा जाता है, इसमें प्रत्येक संख्या अलग होती है. बायीं ओर एक विषम संख्या लिखी होती है, दायी ओर सम संख्या लिखी होती है. इसी आधार पर स्कैनर बार कोड को पढ़ता है.

बारकोड दो प्रकार के होते हैरेखाकार बारकोड (Linear Barcode) या 1 Dimensional Barcode

लाइनर बारकोड,रेखाकार बारकोड या वन डाईमेंशनल बारकोड के नाम से जाना जाता है. 1D बारकोड यूपीसी कोड की तरह होते है.1D बारकोड का उपयोग सामान्यता दैनिक जीवन में साबुन, पेन इत्यादि में किया जाता जाता है.

द्विबिमीय बारकोड (2 Dimensional Barcode) या 2D Barcode

ट्व डाईमेंशनल बारकोड/द्विबिमीय बारकोड अथवा QR कोड स्कैनर के नाम से जाना जाता है. यह बारकोड नई तकनीक से बने है. जिनका आपने कई डिजिटल पेमेंट ऐप जैसे पेटीएम, फोनपे आदि में देखा होगा. 2D बारकोड में 1D बारकोड की तुलना में अधिक जानकारी स्टोर की जा सकती है. इसे आसानी से स्कैन किया जा सकता है. 2D बारकोड का चलन तेजी से बढ़ रहा है क्योकि इन बारकोड को हम स्मार्टफोन से भी आसानी से स्कैन कर सकते है.

Barcode स्कैनर क्या है

बार कोड स्कैनर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है. इसमें कोड को रीड करने के लिए कैमरे का उपयोग किया जाता है. इस कैमरे के लेंस द्वारा प्रकाश को डाला जाता जिसमें कोड के खानों की सूचना कम्प्यूटर तक पहुंचाई जाती है. स्कैन होने के बाद कोड में दी गयी सूचना कम्प्यूटर में सेव हो जाती है.

QR Code और Bar Code में अंतर जानिए

QR Code Bar code
इसका आविष्कार 1994 में हुआथा। इसका अविष्कार 1948 में हुआथा।
इसमें हम कोई भी डाटा को Store कर सकते हैं जैसे कि किसी भी प्रकार का Phone number, audio, video, message, address etc. इसमे हम numeric डेटा को store कर सकते है।
ये barcode के तुलना से 350 गुना ज्यादा storage capacity होता है। इसका storage capacity कम होता है।
अगर ये इसमे कोईभी खराबी आ जाए तो फिर भी ये बिना कोई परेशानी से काम करेगा। अगर इसमें कोई भी खराब हो जाए हो जाए मतलब अगर यह टूट जाए या फट जाए तो इसको हम रीड नहीं कर नहीं कर तो इसको हम रीड नहीं कर नहीं कर सकते या recovery भी नहीं कर सकते।
QR Code को अपने आधार कार्ड, पैन कार्ड में देखा होगा BAR Code को समान खरीदते है तो उसमे अंकित रहता है

QR Code का full form kya hai ?

QR code जिसका पूरा नाम है Quick Response Code. यह भी एक प्रकार का बारकोड है

QR code की परिभाषा

QR code एक तरह की उन्नत तकनीक है जिसके द्वारा आप अपने किसी भी प्रकार के डाटा को (Contact No.,Photo, Document, Message, Link) इत्यादि को encrypted करके स्टोर कर सकते हैं 

QR code को किसने बनाया था ?

1994 में QR code का अविष्कार हुआ था। QR code को Denso Wave ने अविष्कार किया था

ये भी पढ़े:

Leave a Comment