दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना क्या है? DDUGKY in Hindi Leaked on hdhub4u, movievarse and Telegram

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना (Deen Dayal Upadhyaya Grameen Kaushalya Yojana in hindi) DDUGKY Full Form in hindi. DDUGKY kya hai. आज आपको DDUGKY के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी।

DDUGKY क्या है?

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई युवा रोजगार प्रोग्राम योजना है. जिसके तहत देश के सभी ग्रामीण क्षेत्रों के गरीब युवाओं को रोजगार प्रदान कराना हैं।

यह योजना 25 सितंबर सन 2014 को भाजपा के पूर्ववर्ती (Predecessor) एवं भारतीय जनसंघ में प्रमुख पंडित दीन दयाल उपाध्याय की 98वीं जन्म तिथि पर शुरू की गई है।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य 15-35 वर्ष की उम्र के अंतर्गत आने वाले लोगों को रोजगार दिलवाने में मदद करना हैं. यह योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका योजना का ही हिस्सा है, एवं यह पब्लिक -प्राइवेट पार्टनरशिप विधि में की जा रही है।

DDUGKY Full Form

DDUGKY Full Form – Deen Dayal Upadhyaya Grameen Kaushalya Yojana
DDUGKY Full Form in Hindi – दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना

DDUGKY Website- http://ddugky.gov.in/

DDUGKY का उद्देश्य क्या है?

DDUGKY योजना का मुख्य उद्देश्य गरीबों को विश्वस्तरीय प्रशिक्षण, वित्तपोषण (Funding), रोजगार उपलब्ध कराने में जोर देने, रोजगार स्थायी बनाने, आजीविका में उन्नति करने और विदेशों में रोजगार प्रदान करने के लिए सक्षम बनाना है।

डेमोग्राफिक सरप्लस को डेमोग्राफिक डिविडेंड में बदलने के लिए यह भारत के लिए एक ऐतिहासिक अवसर प्रस्तुत करता है. ग्रामीण विकास मंत्रालय ने DDU-GKY योजना लागू की, ताकि गरीब परिवारों से सम्बन्ध रखने वाले ग्रामीण युवाओं की उत्पादक क्षमता और विकासशील कौशल के द्वारा समावेशी (Inclusive) विकास के लिए इस राष्ट्रीय एजेंडे को चलाया जा सके।

  • गांवों में रहने वाले युवाओं को जागरूक किया जाता है. गरीब युवाओं और उनके माता-पिता की काउंसिलिंग होती है।
  • योग्यता के आधार पर कुशलता विकसित करने के लिए युवाओं का चयन होता है. अच्छी नौकरी के लिए बेहतर ट्रेनिंग दी जाती है।
  • रोजगार के अवसर के हिसाब से नॉलेज, अपना बिजनेस शुरू करने की ट्रेनिंग भी दी जाती है. नौकरियों से जुड़ी हर वो जानकारी दी जाती है।
  • जरूरी प्रशिक्षण उपलब्ध कराने से युवाओं के करियर में प्रगति विकास की मदद से गरीब और हाशिए पर खड़े लोगों को सक्षम बनाना ग्रामीण इलाके से पलायन कम करना ज्यादा से ज्यादा लोगों की पहुंच रोजगार तक सुनिश्चित करना।
  • डीडीयू-जीकेवाई के तहत खुदरा कारोबार, हॉस्पिटैलिटी, स्वास्थ्य, निर्माण, ऑटो, चमड़ा, बिजली, पाइपलाइन, रत्न और आभूषण आदि क्षेत्र में युवाओं को कुशलता की ट्रेनिंग दी जाती है. इसमें एक मात्र शर्त यह है कि कुशलता मांग आधारित होनी चाहिए। साथ ही ट्रेनिंग के लिए शर्त यह भी है कि कम से कम 75% युवाओं को रोजगार मिलना चाहिए।

DDU-GKY की मुख्य विशेषताएं

डीडीयू-जीकेवाई इस बात का ध्यान रखता है कि सफलता सुनिश्चित करने और समय और संसाधनों में किए गए निवेश को अधिकतम करने के लिए इसे कई भागीदारों के समर्थन को शामिल करना चाहिए। जन समर्थन को सक्रिय करने और बनाने के साथ-साथ ग्रामीण युवाओं में जागरूकता पैदा करने के लिए, डीडीयू-जीकेवाई परियोजनाएं बाजार से जुड़ी हुई हैं और पीपीपी मोड में लागू की गई हैं।

नागरिक समाज संगठनों, शैक्षणिक संस्थानों, शीर्ष कौशल भागीदारों और नियामक संगठनों, सरकार और निजी संगठनों के बीच भागीदारी और भागीदारी यह सुनिश्चित करती है कि डीडीयू-जीकेवाई सभी की ताकत का लाभ उठा सके और परिवर्तनकारी परिवर्तन प्राप्त कर सके।

DDU-GKY के लाभ

  • जरूरी प्रशिक्षण उपलब्ध कराने से युवाओं के करियर में प्रगति
  • विकास की मदद से गरीब और हाशिए पर खड़े लोगों को सक्षम बनाना
  • ग्रामीण इलाके से पलायन कम करना
  • ज्यादा से ज्यादा लोगों की पहुंच रोजगार तक सुनिश्चित करना

कौन से कदम शामिल हैं DDU-GKY योजना में?

  • रोजगार के अवसर के बारे में ग्रामीण समुदाय के भीतर जागरूकता बढ़ाना.
  • गरीब ग्रामीण युवाओं की पहचान करना.
  • रोजगार पाने के अवसर ढूंढने वाले ग्रामीण युवाओं को जुटाना.
  • गरीब युवाओं और उनके माता-पिता की काउंसिलिंग.
  • योग्यता के आधार पर कुशलता विकसित करने के लिए युवाओं का चयन.
  • रोजगार के अवसर के हिसाब से ज्ञान, उद्योग से जुड़े कौशल और विजन उपलब्ध कराना.
  • ऐसी नौकरी देना जिनका सत्यापन स्वतंत्र तरीके से किया जा सके. इसमें युवाओं को न्यूनतम मजदूरी से ज्यादा भुगतान मिल सके.
  • नियुक्ति के बाद व्यक्ति की सतत आय में मदद उपलब्ध कराना.

ये भी पढ़े:

Leave a Comment